ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
नहीं टला वायु  तूफ़ान का खतरा !
June 15, 2019 • Rajat Raj Gupta

 

नई दिल्ली। जैसा की आप सब जानते है की अभी कुछ महीनो पहले फैनी तूफ़ान ओडिसा के तट से टकराया था जिसने ओड़िसा में काफी तबाही मचाई। पर अभी उस तूफ़ान की तबाही से अभी ओडिसा संभल भी नहीं पाया और गुजरात में वायु तूफ़ान आ गया।  बताया जा रहा था की वायु गुरूवार को गुजरात से टकराएगा लेकिन नहीं टकराया। पर अब जब सारे लोग अपने घरों में वापिस जा रहे है तो बताया जा रहा है की वायु अब जा वापिस आएगा तो गुजरात के तटों से टकरा सकता है।

 

जब गुरुवार को गुजरात वायु के लिए तैयार था तब यह वायु आया नहीं जिसकी वजह से जिन  जिन लोगो को खतरे वाली जगहों से निकाल कर सुरक्षित जगहों पे भेजा गया था वो सब अब वापिस अपने घर आ रहे है लेकिन वो जैसे ही घर आते है उन्हें पता चलता है की अभी खतरा नहीं टला है।

 

चक्रवाती तूफान 'वायु' अपनी दिशा बदल कर गुजरात के कच्छ में पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है। बताया जा रहा है की ओमान की ओर गया वायु अगले 36 घंटो में वापस कच्छ की सीमा से टकराएगा। अनुमान लगाया जा रहा है कि इसकी गति इस बार काफी कम होगी जिसकी वजह से यह गुजरात के तटिये इलाको को सबसे ज्यादा प्रभावित करेगा। तेज रफ़्तार हवाओं के साथ-साथ भारी बारिश होने का भी अनुमान है। चक्रवाती तूफान वायु गुजरात के पोरबंदर और द्वारका के भी काफी इलाकों पर अपना असर डालेगा। अगले 48 घंटों के दौरान इसके पश्चिम की ओर बढ़ने का अनुमान है। जिसके बाद यह फिर से उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ेगा।

 

चक्रवात चेतावनी विभाग ने  एक बुलेटिन में बताया है की, ''चक्रवात पश्चिम की ओर मुड़ रहा है, जिससे पोरबंदर, देवभूमि द्वारका जिले में 50-60 किमी प्रति घंटे से लेकर 70 किमी प्रति घंटे तथा गिरी सोमनाथ और जूनागढ़ जिले में 30-40 किमी प्रति घंटे से लेकर 50 किमी प्रति घंटे की गति वाली हवाओं के झकोरों से प्रभावित होंगे।इन तीनो जिलों में हवा की गति के कम होने की आशंका है। गुजरात के मुख्यमंत्री  विजय रूपानी ने शुक्रवार को संवादाताओं से कहा है की, "तटीय क्षेत्रों से निकाले गए लगभग 75 लाख लोग अपने घरों को लौटने के लिए स्वतंत्र हैं'' उन्होंने कहा कहा कि स्कूल और कॉलेज शनिवार से विधिवत शुरू होंगे।"

 

हम आपको बता दे की भारत में इस साल आने वाला यह दूसरा तूफ़ान है। इस तूफ़ान से पहले फैनी तूफ़ान आया था जिसने ओड़िसा में काफी केहर बरसाया था।