ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
योगी ने पुलिस वालों से कावड़ियों के पैर दबवाये
July 28, 2019 • Gulshan Verma

 


कांवड़ यात्रा में बड़ी संख्या में देशभर से शिवभक्त उत्तराखंड राज्य में आते हैं हरिद्वार स्थित हरकी पैड़ी से गंगाजल लेकर और ऋषिकेश में ‌स्थित नीलकंठ महादेव मंदिर में शिव को जल चढ़ाते हैं. इस दौरान कांवड़ यात्रा में लाखों की संख्या में हर वर्ष श्रद्धालुगण का उत्तराखंड में तांता लगा रहता है.  वही कावड़ यात्रा के दौरान अक्सर कावड़ियों के अलग अलग व्यहवार से लोगों को दो चार होना पड़ता है , कांवड़ यात्रा के कुछ नियम होते हैं जिनका करीब करीब सभी पालन करते हैं लेकिन मुठ्‍ठी भर ऐसे लोग भी हैं जो इनका पालन नहीं करते।

नियम यह है कि कावड़ यात्रा के दौरान किसी तरह का नशा, मांसाहार निषेध है और यह यात्रा नंगे पैर ही की जाती है। खबरों के अनुसार हरिद्वार में कुछ कांवड़िए नशा करते हैं और श्रावण के महीने में नशे का कारोबार 30 करोड़ रुपए तक पहुंच जाता है। नशा करने वाले कांवड़िए के भेष में कुछ लोगों ने कैमरे के सामने यह कहा कि नशा करने से उन्हें थकान महसूस नहीं होती जबकि सच्चे कांवड़िए नशे से कोसो दूर रहते हैं। वे भगवान शिव की आस्था में ऐसे डूब जाते हैं कि उन्हें अपने पैरों में पड़ गए छालों से भी दर्द का अहसास नहीं होता।

वही योगी आदित्य नाथ इन दिनों कावड़ियों पर खासे मेहरबान नज़र आ रहे हैं , कांवड़ यात्रा की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए दिल्‍ली, उत्‍तर प्रदेश और उत्‍तराखंड समेत चार राज्‍यों की पुलिस ने बैठक की है. बैठक में कांवड़ यात्रा की सुरक्षा व्‍यवस्‍था पर चर्चा की गई. इसके बाद प्रशासन सतर्क हो गया है. सुरक्षा के लिहाज से एटीएस ने हरिद्वार में डेरा डाल लिया है, वहीँ हेलीकॉप्टर से कावड़ियों पर फूल बरसाए जा रहे हैं और पुसिल कर्मियों से कावड़ियों के पैर दबवाये जा रहे हैं 
, अभी हाल ही में एक वीडियो वायरल हुआ उत्तर प्रदेश पुलिस का जिसमे यूपी के शामली पुलिस ने अपने आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से एक ऐसा वीडियो पोस्ट किया है।

जिसमें जिले के एसपी अजय कुमार (एस पी  अजय  कुमार ) एक कांवड़िये का पैर दबा रहे हैं। इसके उनकी एक (अजय  कुमार ) फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।जिसमें वे एक हेलीकॉप्टर पर सवार होकर कांवड़ियों पर फूल बरसाते दिखाई दे रहे हैं। इसके अलावे मेरठ, सहारनपुर और मुजफ्फरपुर में भी कांवड़ियों पर फूलों की वर्षा की गई है। बहरहाल फूल बरसाना तो ठीक है लेकिन इस तरह से पुलिस कर्मियों से कावड़ियों के पैर दबवाना कहाँ तक जायज़ है ये ठीक है या ग़लत इसका फैसला हम पूरी तरह से आप पर छोड़ते हैं , आप हमें कमेंट बॉक्स में बताइये की क्या पुलिस की वर्दी में की पुलिस कर्मी का कावड़ियों के पैर दबाना जायज़ है ?