ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
रुचि सोया के लिए अडानी विल्मर की बोली मंजूर किए जाने के खिलाफ एनसीएलटी गई पतंजलि
August 25, 2018 • akash

 

भारत की जानी मानी आयुर्वेदिक कंपनी जिसने अपने उत्पाद की छाप देश के चप्पे-चप्पे पर छोड़ी है, वहीँ इन दिनों कंपनी को अपने ग्रोथ मोर्चे की रफ़्तार को लेकर परेशानियाँ झेलनी पड़ रही है। वंही सुनने में आया था की रामदेव की कंपनी रूचि सोया को खरीदने में रूचि ले रही थी लेकिन उनका यह सपना भी पूरा होता नहीं दिखता. दरअसल रूचि सोया दिवालियापन कानून का सामना कर रही थी.96 % मतदान के साथ अडानी विल्मर को रूचि सोया के कर्जदाताओं  की समिति ने अपनी मंजूरी दे दी.

अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी ने अपनी कंपनी के मेंबर्स को खुसखबरी देते हुए कहा की हम अपनी कम्पनी में खाद्य पदार्थो के लिए थोड़ी और जगह बनायी जाये क्यूंकि रूचि सोया अडानी के हाथों में आने वाली है इसके लिए विल्मर इंटरनैशनल और अडानी ग्रुप के जॉइंट वेंचर की और से लगायी गयी 6,000 करोड़ की बोली को मंजूर कर लिया गया है.बस अब कम्पनी को नेशनल कंपनी लौ ट्रिब्यूनल की मंजूरी लेनी पड़ेगी.

nclt  की शाखा में आयुर्वेद कंपनी पतंजलि ने इस फैसले का विरोध किया है. तथा इस मामले में 27 अगस्त को सुनवाई हो सकती है. वंही पतंजलि के प्रवक्ता s.k तिजरावाला ने कुछ भी कहने से इंकार करा है और कहा है की मामला अभी प्राधिकरण में है। और अडानी ग्रुप के किसी भी प्रवक्ता ने भी कुछ नहीं कहा इस बारे में.

नीलामी के समय में सबसे ज्यादा बोली के साथ 6,000 करोड़ के साथ सबसे आगे अडानी विल्मर चल रहे थे जबकि दूसरे स्थान पर 5,700 के साथ पतंजलि चल रही थी और इससे पहले पतंजलि कंपनी ने अडानी ग्रुप की रेजॉलूशन प्रफेशनल के सामने रूचि सोया पर सवाल खड़े किये थे. तथा रेजॉलूशन प्रफेशनल से यह पूछा गया की उंहोने किस आधार पर अडानी विल्मर को सबसे ज्यादा बड़ी बोली लगाने वाला बताया।

पतंजलि ने सिरिल अमरचंद मंगलदास पर आरोप लगाते हुए यह कहा की वह रेजॉलूशन प्रफेशनल का कानूनी सलाहाकार घोषित किये जाने पर पर यह कहा की वह अडानी ग्रुप के सलाहाकार रह चुके हैं. क्यूंकि पतंजलि को अडानी विल्मर की 6,000 करोड़ रुपए की बोली के बराबर या उससे ज्यादा की बोली लगाने के लिए पतंजलि कंपनी को 16 जून तक का समय दिया गया था.तथा पतंजलि ने नयी बोली लगाने के बजाये रेजॉलूशन प्रफेशनल्स पर ही सवाल खड़े कर दिए।