ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
सुरेंद्र सिंह के बेटे ने स्मृति ईरानी को बताया असली सच
May 26, 2019 • Gulshan Verma

सुरेंद्र सिंह के बेटे ने स्मृति ईरानी को बताया असली सच

अमेठी ।स्मृति ईरानी अमेठी से जीतीं और बहुत अच्छे मार्जिन से जीतीं लेकिन इस जीत को अभी बामुशिक्ल 48 घंटे भी नहीं हुए होंगे की एक बुरी खबर सामने आई , खबर अमेठी से थी जहाँ रात के तीन बजे बदमाशों ने एक निर्दोष पूर्व प्रधान और स्मृति ईरानी के ख़ास आदमी को गोली से उड़ा दिया। जैसे ही खबर ने ज़ोर पकड़ा पुलिस भी आनन फानन में हरकत में आई सात लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया और पूछताछ शुरू हुई।
जानकारी देते चलें की अमेठी के बरौलिया के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह जो स्मृति ईरानी के राइट हैंड मने जातें है। दिनरात बीजेपी के लिए जीतोड़ मेहनत करके चुनाव में परचंड जीत दिलवाने वाले सुरेंद्र सिंह स्मृति ईरानी के विजय जलूस से होकर अपने घर लौटे थे वहीँ इस विजय जलूस का कुछ कांग्रेस के कार्यकर्तों ने भरी विरोध भी किया था ऐसा कहना है सुरेन्द्र सिंह के परिवार वालों का । एक न्यूज़ एजेंसी को इंटरव्यू देते हुए सुरेंद्र सिंह के बेटे ने ये बयान दिया है की कांग्रेस के कार्यकर्ता इस विजय जलूस से नाराज़ थे । वहीँ जब स्मृति को इस घटना की जानकारी मिली तब नवनिर्वाचित सांसद स्मृति इरानी दिल्ली से अमेठी के लिए हुईं रवाना, वह सुरेंद्र के परिवार से मिलीं और उन्हें आश्वासन दिया की जो भी लोग इस अपराध में शामिल हैं उन्हें नहीं बक्शा जाएगा।
गौरतलब है की अमेठी के बरौलिया के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह जब अपने घर में सौ रहे थे तब चार बदमाश रात को 3 बजे उनके घर में दाखिल हुए और इस घटना को अंजाम दे दिया।
पीड़ित के परिवार वाले ये बोल रहे हैं की कांग्रेस को हार बर्दाश्त नहीं हुआ और चूँकि सुरेंद्र सिंह इस पुरे चुनाव में काफी ज़्यादा सक्रिय थे इसलिए कांग्रेस के कार्यकर्तों ने इस घटना को अंजाम दिया है। जी हाँ सुरेंद्र सिंह के परिवार ने हत्या का आरोप स्थानीय कांग्रेस नेताओं पर लगाया है और जल्द ही उनकी गिरफ्तारी की मांग कर डाली है ।
मीडिआ से बात करते हुए सुरेंद्र सिंह के बेटे अभय ने बताया,कि 'स्मृति इरानी की जीत को लेकर हम लोग जश्न भी मना रहे थे, जो कई कांग्रेस समर्थकों को बिलकुल अच्छा नहीं लगा। इस घटना को कहीं ना कहीं राजनीतिक द्वेष के चलते अंजाम दिया गया है । हम स्मृति इरानी से अपील करते हैं कि जो भी इस घटना में शामिल है उसे जल्द से जल्द गिरफ्तार कर सजा दिलाएं।