ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
सुषमा स्वराज ने नहीं इस पाकिस्तानी लड़की ने बचाया हामिद अंसारी को।
December 22, 2018 • Gulshan Verma

 

जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में 6 साल बिताने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर हामिद निहाल अंसारी गुरुवार को अपने वतन वापिस लौटे आये हैं । 33 युवक हामिद अंसारी 6 साल के लंबे इंतज़ार के बाद अपने देश भारत वापिस लौट आएं। 18 दिसम्बर 2018 ये वो दिन है जब जिसे हामिद और उसके परिवार वाले कभी भुला नहीं पाएंगे, हामिद की दोस्ती सन 2012 फेसबुक के माध्यम से एक लड़की से हुई थी जिसने हामिद से कहा था की मेरे घरवाले मेरी शादी किसी और से कर रहें हैं तुम यहाँ पर आकर मुझे बचा लो। बस फिर क्या था हामिद अंसारी ने वीसा के लिए अप्लाई किया लेकिन वीसा नहीं मिलने पर ग़लत तरीके से पाकिस्तान जाने की योजना बना डाली और पहुँच गया अफगानिस्तान जहाँ से नकली पाकिस्तानी दस्तवेज़ों को लेकर सनी देओल के स्टाइल में पाकिस्तान में एंट्री तो कर ली लेकिन जल्द ही वहां की पुलिस ने हामिद को गिरफ्तार कर लिया और जासूसी के आरोप में ख़ुफ़िया एजेंसिओं के हवाले कर दिया।


15 दिसंबर 2015 ये वो दिन था जब हामिद निहाल अंसारी को 3 साल की सज़ा सुनाई गई और पेशावर जेल भेज दिया गया। अब ऐसे हालत में पकिस्तान जैसे पराये मुल्क में कोई भी ऐसा नहीं था जो हामिद की मदद करता हामिद सभी से मदद मांगता रहा लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।
दूसरी तरफ हामिद के माँ बाप जो पहले समझते थे की हमारा बेटा इस दुनिया को छोड़ कर जा चूका है , हामिद की सज़ा को सुन कर एक बार फिर से इस कोशिश में लग गए की किसी तरह से पाकिस्तान की जेल से हामिद को रिहा करवा लिया जाये , लेकिन ऐसा हो ना सका, एक रिपोर्ट के मुताबिक हामिद के मां- बाप ने 95 बार अर्जी पाकिस्तान भेजी तब कहीं जा कर हामिद की सुनवाई हो पाई , वहीें जैसे ही हामिद रिहा हुआ सोशल मीडीया पर सुषमा स्वराज की जय जय कर होने लगी।


वहीँ पकिस्तान में जिस महिला ने हामिद निहाल अंसारी की मदद की और उसे सहारा दिया उसका नाम इंडिया मीडिया ने उजागर करना ज़रूरी नहीं समझा लेकिन आपको अपनी इस रिपोर्ट में हम बताने जा रहे हैं । उस पाकिस्तानी महिला के बारे में जिसकी वजह से हामिद आज ज़िंदा है और अपने परिवार के पास है , दरअसल पाकिस्तान की जेल में हामिद की मुलाकात हुई रख्शंदा नाज़ से हामिद ने नाज़ को अपनी आप बीती बताई और मदद की गुहार लगाई रख्शंदा नाज़ ने इसे इंसानियत का काम समझते हुए हामिद की पूरी मदद करने का आश्वासन दिया और उनके लिए पाकिस्तान में क़ानूनी लड़ाई लड़ी जिसके बाद आखिर कार हामिद को पाकिस्तान सरकार ने रिहा कर दिया।

जानकारी देते चलें की रख्शंदा नाज़ पाकिस्तान की मानवाधिकारों की वकील हैं जिन्होंने हामिद के लिए न सिर्फ कानूनी लड़ाई लड़ी बल्कि उन्हें मानसकि तौर पर भी काफी सपोर्ट किया । हामिद की मुश्किल घड़ी में रख्शंदा नाज़ ने उनकी काफी मदद की। वो जब भी हामिद से मिलने जेल जाया करतीं तब उनके लिए कुछ ना कुछ खाने की चीज़ें ज़रूर ले जातीं और उन्हें विश्वास दिलाया करती थीं की वो जल्द ही रिहा होकर अपने देश होंगे और आखिर में हुआ भी ऐस ही।