ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
स्मृति ईरानी ने सुरेंद्र सिंह को कांधा देकर किया प्रशंसनीय कार्य
May 27, 2019 • Gulshan Verma

स्मृति ईरानी ने सुरेंद्र सिंह को कांधा देकर किया प्रशंसनीय कार्य

अमेठी ।अमेठी के बरौलिया के पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह जो स्मृति ईरानी के राइट हैंड मने जातें है। दिनरात बीजेपी के लिए जीतोड़ मेहनत करके चुनाव में परचंड जीत दिलवाने वाले सुरेंद्र सिंह स्मृति ईरानी के विजय जलूस से होकर अपने घर लौटे थे वहीँ इस विजय जलूस का कुछ कांग्रेस के कार्यकर्तों ने भरी विरोध भी किया था ऐसा कहना है सुरेन्द्र सिंह के परिवार वालों का । एक न्यूज़ एजेंसी को इंटरव्यू देते हुए सुरेंद्र सिंह के बेटे ने ये बयान दिया है की कांग्रेस के कार्यकर्ता इस विजय जलूस से नाराज़ थे । वहीँ जब स्मृति को इस घटना की जानकारी मिली तब नवनिर्वाचित सांसद स्मृति इरानी दिल्ली से अमेठी के लिए हुईं रवाना, वह सुरेंद्र के परिवार से मिलीं और उन्हें आश्वासन दिया की जो भी लोग इस अपराध में शामिल हैं उन्हें नहीं बक्शा जाएगा।
लेकिन इसी दौरान कुछ ऐसा हुआ जिसने सभी की ऑंखें नाम कर दीं , मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो जब स्मृति ईरानी पूर्वप्रधान सुरेंद्र सिंह के घर पहुंची तो उन्हें इस अवस्था में देख कर रोने लगीं , स्मृति ये कहती हुई काफी ज़्यादा भावुक हो गईं की वो मेरा भाई इस दुनिया में नहीं रहा , वहीँ जब उन्होंने सुरेंद्र सिंह के बेटे को रोते हुए देखा तो उसे सांत्वना देते हुए गले लगा लिया और कहा की मेरे कसम खाओ की कुछ ग़लत नहीं करोगे , तुमने अपना पिता और मैंने अपना भाई खोया है ।
वहीं पूर्व प्रधान के घर से ही स्मृति ईरानी ने पूर्व प्रधान सुरेंद्र सिंह को कांधा दिया और कई किलोमीटर स्मृति यूँ ही चलती रहीं , इस पुरे वाक्य में नोटिस करने वाली बात ये रही की स्मृति काफी दूरतक अर्थी को कांधा दे कर चलती रहीं हज़ारों लोगों की भीड़ थी और सबने बार बार कहा
की दीदी हम कांधा देते हैं लेकिन स्मृति ईरानी खुद ही आगे बढ़ती रही ।
जिसने भी ये मंज़र देखे वि स्मृति ईरानी का प्रशंसक हो गया क्यूंकि इतने बड़े पद पर होते हुए भी अपने किसी कार्यकर्त्ता के लिए इतना डेडिकेशन दिखन बहुत सहस की बात है। वहीँ स्मृति ईरानी ने ये शपथ भी ली है की अगर सुरेंद्र सिंह के अपराधी पाताल में भी होंगे तो मैं उन्हें वहां से भी ढूंढ कर निकल लाऊंगी और सज़ा दिलवा कर ही रहूंगी ।