ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
कोरोना वॉरियर्स बने इंडियन आर्मी के जवानों ने 500 से ज्यादा लोगों की जिंदगी सुरक्षित की  Arpan News
June 4, 2020 • अर्पण न्यूज़ ब्यूरो • Delhi/NCR

 

 

ARPAN NEWS गुलशन वर्मा 

नई दिल्ली:कोरोना वायरस के प्रकोप के बीच लोगों की जिंदगी बचाने वाले कोरोना वॉरियर्स को पूरा देश सलाम कर रहा है। कोरोना वॉरियर्स में शामिल सफाई कर्मचारी, डॉक्टर्स, मेडिकल स्टाफ़, पुलिसकर्मी, मीडियाकर्मी और वो तमाम लोग हैं जो अपनी जान को जोखिम में डाल कर इस भयानक महामारी के बीच जन सेवा में लगे हैं।

 आज देश को सभी कोरोना वॉरियर्स पर गर्व है, ऐसे में देश की सबसे बड़ी ताकत भारतीय सेना जो हर आपदा में हर बड़े संकट में बड़े-से-बड़े दुश्मन से लोहा लेने के लिए हमेशा तैयार रहती है। इस महामारी के दौर में भी कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए भारतीय सेना के जवान बुलंद हौसले और पूरे जोश-ओ-खरोश के साथ अपनी और संक्रमित मरीजों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं।  और अभी तक सिर्फ राजधानी दिल्ली में भारतीय सेना के जवान 520 मरीजों को हिफाज़त के साथ सुरक्षित हॉस्पिटल तक पहुंचा चुके हैं।  

हमारी टीम को दिल्ली की सड़कों पर जब ये भारतीय जवान इंडियन आर्मी की एम्बुलेंस के साथ दिखे तो हमने इस खबर को जनता तक पहुचना ज़रूरी समझा।

इंडियन आर्मी के ये जवान करोना संक्रमित मरीजों को हॉस्पिटल तक पहुँचाने में खास भूमिका निभा रहे हैं, अपनी जान की परवाह किये बिना इंडियन आर्मी के ये जवान 12 से 18  घंटे की ड्यूटी संक्रमित मरीजों के लिए रोजाना कर रहे हैं।

भारतीय सेना के बहादुर जवान झुलसा देने वाली गर्मी में तमाम मुश्किल हालात में अपनी ड्यूटी को पूरी शिद्दत से निभा रहे हैं।

ये ही नहीं सबसे बड़ी चुनौती इन जवानो के लिए ये है की किस तरह से ये उन सभी मरीजों को सुरक्षित रखते हुए हॉस्पिटल तक पहुंचाएं जिनकी ज़िम्मेदारी इन्हें सौंपीं जाती है।

मिली जानकारी के मुताबिक इंडियन आर्मी (Indian Army) की तक़रीबन 10 एम्बुलेंस में 20 से 30 जवान हमेशा 7 दिन 24 घंटे तैनात हैं, राजधानी दिल्ली के अलग-अलग डीएम ऑफिस के बाहर हर रोज़ इनकी ड्यूटी लगाईं गई है।

अप्रैल महीने के 26 तारीख से लगातार ये जवान कोरोना मरीज़ों और नॉन-कोविड मरीजों को हॉस्पिटल तक ले जाने की ड्यूटी पूरी मुस्तैदी से कर रहे हैं।जो ज़िम्मेदारी इन जवानो को सौंपी गई है इसमें सबसे ज्यादा रिस्क शामिल है ,हर रोज़ ये जवान कोरोना पॉजिटिव मरीजों को उनके घर से हॉस्पिटल पहुंचाते है।

 एक बार मरीज़ को हॉस्पिटल पहुँचाने के बाद इन्हें पूरी गाड़ी यानी उस एम्बुलेंस को अच्छी तरह से सेनेटाइज करना होता है,ताकि कोई और मरीज़ इस महामारी की चपेट में ना आ जाये।

साथ-ही-साथ भारतीय सेना के ये जवान मानसिक तौर पर भी मरीजों को समझाते दिखे, कोरोना वायरस की चपेट में जो भी शख्स आता है सबसे पहले वो मानसिक तौर पर कमज़ोर हो जाता है, ऐसे में इंडियन आर्मी के ये जवान उन मरीजों को हौसला देते हैं और सकरात्मक ढ़ंग से बातचीत के ज़रिये उनका मनोबल बढ़ाते हुए नज़र आये हैं।

 लगातार बढ़ते मरीजों के कारण कई बार मरीज़ को एम्बुलेंस में बिठा कर इंडियन आर्मी के जवानो को कई अस्पतालों के चक्कर लगाने पड़ते हैं लेकिन इन जवानो का हौसला बुलंद है।

इंडियन आर्मी के ये जवान जिस तरह से दिन रात कोरोना वॉरियर्स के तौर पर जनता की सेवा कर रहे हैं, इनके हौसले इनके जज़्बे और इनके जूनून को हम सलाम करते हैं।

अपनी जान की परवाह किये बिना मुश्किल-से-मुश्किल हालातों में दिन रात कोरोना मरीजों के लिए योधाओं की तरह लड़ाई लड़ रहे हैं, भारतीय सेना के ये जवान डटकर हर मुश्किल का सामना कर रहे हैं।