ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
ओवैसी ने दिया भड़काऊ भासन।
November 29, 2019 • अर्पण न्यूज़ ब्यूरो

अयोध्या केस में राम मंदिर बनाने के कोर्ट के फैसले के बाद से ही अयोध्या से ले कर पूरे भारत में ख़ुशी की लहर है। ख़ुशी इस बात की नहीं की अयोध्या में राम मंदिर बनेगा बल्कि ख़ुशी इस बात की है की सालों से इस मुद्दे पर राजनीती कर रही पार्टियों के पास अब ये मुद्दा नहीं रहेगा। मगर अयोध्या में मस्जिद न बनने की वजह से मुस्लिम पक्ष काफी ज्यादा नाराज़ है क्यूंकि उन्हें लगता है की विवादित जमीन पर उनका अधिकार था पर बावजूद इसके कोर्ट ने ये ज़मीन हिन्दू पक्ष को राम मंदिर बनाने के लिए दे दी। जिस वजह से मुस्लिम नेता असद्दुदीन ओवैसी ने एक विवादित बयान दिया है।

 

अयोध्या केस के फैसले के बाद से ही सभी राजनीतिक पार्टियों के नेताओं का बयान आने लगा है जिसमे सबने ये कहा की वो सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से काफी खुश है लेकिन अब एक ऐसे नेता का बयान आया है जो इस फैसले से बिलकुल भी खुश नहीं है। AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी ने इस फैसले के आने के बाद एक प्रेस कांफ्रेंस की है जिसमे उन्होंने कहा है की वो 500 साल पुरानी बाबरी मस्जिद के बारे में अपने बच्चों को बताते रहेंगे और वो अपने घर का सौदा कर सकते है पर इस मस्जिद का नही। असद्दुदीन ओवैसी ने कहा, मैं इस फैसले से बिलकुल भी खुश नहीं हु, सुप्रीम कोर्ट सुप्रीम है पर अचूक नहीं है। जिन्होंने बाबरी मस्जिद को शहीद किया 6 दिसंबर1992 को आज उनकी खुशकिस्मत है की उन्हें ही कोर्ट ने ट्रस्ट बना कर राम मंदिर बनाने का काम सौंपा है। हम अपने लीगल राइट के लिए लड़ रहे थे पर मुस्लिमों के साथ भेद-भाव किया गया है। हिंदुस्तान के मुसलमान इतने गिरे हुए नहीं है की वो 5 एकड़ की जमीन खरीद नहीं सकते। हमें नहीं चाहिए ऐसी खैरात, हम अपने हक़ के लिए लड़ रहे थे। अगर मैं हैदराबाद में जा कर भीक भी मांगू तो मुझे इतने पैसे दे दिए जायेंगे की मैं अयोध्या में जा कर 5 एकड़ की जमीन मस्जिद के लिए खरीद सकता हु। मेरी मुस्लिम पर्सनल बोर्ड को ये राय है की उन्हें इस 5 एकड़ की जमीन की खैरात  को क़ुबूल नहीं करना चाहिए। मुझे अब लगता है की राष्ट्र हिंदुत्व की तरफ बढ़ता जा रहा है। पर हम APNI आने वाली नस्ल को ये बताते रहेंगे की अयोध्या में 500 साल पुराणी मस्जिद थी जिसे संघ ने हटवा दिया था।

 

बहरहाल असद्दूदी ओवैसी हमेशा से ही संघ के खिलाफ रहते है और आज भी वो संघ के खिलाफ खड़े हैं।