ALL Special Stories Delhi/NCR Current Affairs Political News Bollywood News T.V Serial Updates Breaking News Spiritual अजब गजब
सना ने सुनाए अपने दादा जी के किस्से
December 3, 2019 • अर्पण न्यूज़ ब्यूरो • T.V Serial Updates

अपूर्वा गोस्वामी

नई दिल्ली| शहनाज़ घर के अंदर अक्सर अपने किस्से सुनाती रहती हैं| कभी पर्सनल लाइफ से जुड़े तो कभी घरवालो के साथ अपना एक्स्पेरिंस शेयर करती हैं| शहनाज़ घरवालो को ये भी बताती रहती हैं कि उसको कैसा हसबंड चाहिए| देखने में कैसा होना चाहिए वो लुक्स वाइज कैसा होना चाहिए| और ऐसा ही सब शहनाज़ अक्सर घरवालों को बताती रहती हैं| वही अब शहनाज़ ने अपने दादा जी का एक किस्सा सभी घरवालो को सुनाया हैं जिसको सुनकर सभी घरवाले शहनाज़ का मजाक तो उड़ाते ही हैं लेकिन शहनाज़ की बात को सुनकर हैरान भी हो जाते हैं|

दरअसल हुआ ये होता हैं कि शेफाली, हिमांशी सिद्धार्थ, विशाल, महिरा, आसिम और हिन्दुस्तानी भाऊ बाहर गार्डन एरिया में बैठे बातचीत कर रहे होते हैं| शहनाज़ उस बातचीत के दौरान अपने दादा जी के किस्से सुनाने लग जाती हैं| शहनाज़ कहती हैं कि “गाँव में तुम्ह्ने वो देखे हैं जो छोटे छोटे काले रंग के कपडे पहन कर घूमते हैं जो काफी समय पहले होते थे और मुहं पर ग्रीस लगा कर चोरियां करते हैं| शहनाज़ बताती हैं मेरे दादा का कोई काम नहीं हैं जैसे ही वो आते हैं ऊपर जाते हैं बन्दुक से फायर कर देते हैं| शहनाज़ कहती हैं उस फायर की वजह सुनकर ही वो समझ जाते हैं कि इनके पास बन्दुक हैं बस इतना ही बहुत हैं| दादा वो चलाकर आ जाते हैं और निचे आ कर सो जाते हैं| कभी कभी जब उनके पास कारतूस नहीं होता तो जो आलू बाम होता हैं दादा वो जला कर आ जाते थे| वो पटाका दादा जी जलाते थे तो उन चोरो को लगता था कि गोली चली हैं| शहनाज़ कहती हैं इतने तेज़ हैं मेरे दादा जी|

शहनाज़ एक और किस्सा सुनती हैं कि जब मैं गाँव जाती थी न तो हमारी एक शॉप हैं छोटी सी जो दादा जी ने ऐसे ही टाइमपास के लिये खोल रखी हैं| तो मैं वहां बैठी थी तो बहुत सारे लड़के वहां मेरे साथ फोटो खिचवाने आये| तो मेरे दादा ने जो मेरे पास खड़े थे तो उनको भगा ने लगे और मुझे भी अंदर जाने के लिये कहने लगे| मैंने उनको समझाया दादा ऐसा नहीं होता वो मेरे फैन्स हैं| दादा कहते ये फैन्स कुछ नही होता अंदर जा|

फिर मेरी दादी बाहर आई तो उन्होंने बताया कि ऐसा नहीं होता| फिर दादी ने दादा को अंदर भगा दिया तब मुझे फोटो करवाने के लिये दादी ने कहा| शहनाज़ कहती हैं कि मेरे दादा जी मेरी दादी जी के पुरे गुलाम हैं|